बुधवार, 23 मार्च 2011

तुम हरामी नहीँ हो

माफ करना,
तुम हरामी नहीँ हो
और हरामजादा भी नहीँ।
लेकिन,
जो कुछ भी तुम हो -
उसके लिए -
यह दोनोँ शब्द -
हरामी और हरामजादा -
बहुत छोटे हैँ।
क्योँकि -
हरामी और हरामजादे -
अपनी वल्दियत नहीँ जानते,
और तुमने,
अपनी माँ को -
योरप, अमेरिका, चीन और अरब की गलियोँ मेँ,
नीलाम कर दिया।
www.atharvavedamanoj.jagranjunction.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें